Paryavaran Or Pradushan (Safety Management) Hindi

270 Grams
Be the First to Review
Buy Online
Enquiry
250
Delivery
Enter pincode for exact delivery dates and charge
Safe and Secure payments.100% Authentic products
Specifications
PublisherChetan Prakashan ISBN9789386953254 AuthorPrerna Changeriya,Dr. B. S. Tanwar LanguageHindi TypeHandbooks BindingPaperback Publication Date2011 No. of Pages100 GenreSafety Management Actual Weight270Length29Width21Height1Book SizeA4Cover PageColorInside PageB/W
Description
प्रकाशकीय
‘‘पर्यावरण प्रदूषण ’’ शीर्षक से लिखी हुई आज के समय में बड़ी समस्याओं में से एक समस्या पर्यावरण प्रदूषण पर है। समस्या इतनी बड़ी हो चुकी है कि दुनिया के सामूहिक प्रयास के बिना इस समस्या से निजात नहीं मिल सकती। उचित ज्ञान, कड़े कानूनी नियम, इछा शक्ति, सामूहिक प्रयास, व्यक्तिगत प्रयास, अंतराष्ट्रीय प्रयास ही इस धरती को बचा सकते है आज के समय में हमारे सामने दो बड़ी चुनौतियां हैं। एक- पर्यावरण को स्वच्छ रखने में वह कैसे अपना योगदान दे और दूसरा – खतरनाक स्तर तक प्रदूषित हो चुके पर्यावरण प्रदूषण को कैसे कम किया जाये ।
संतुलन बिगड़ता गया, बड़ी मुसीबत आय ।
समय नहीं समझदार को, समय रूठता जाय ।।
यह पुस्तक इन्हीं समस्याओ को ध्यान में रख कर तैयार की गई है। यह पुस्तक सचित्रो के साथ ये बताती है कि कैसे हम अपने आसपास हवा-पानी को स्वच्छ रख सकते हैं, कैसे अपशिष्ट प्रदार्थो का प्रबंधन सकते हैं, अपने आसपास के खतरनाक विकिरण से बच सकते हैं, कैसे ध्वनि प्रदूषण, मृदा प्रदूषण, समुद्री प्रदूषण, आदि को कम कर सकते हैं। कैसे वनों और वन्य जीवों की रक्षा कर सकते हैं और कैसे अपने आसपास की गर्मी या सर्दी को नियंत्रित कर सकते हैं।
इन उपायों के साथ-साथ पुस्तक यह भी बताती है कि मानव जनित अपदाओ से किस तरह हमने पर्यावरण को हानी पहुचाई है व्रहद रूप से फेल चुके रहे प्रदूषण के बीच हम अपने स्वास्थ्य की रक्षा कैसे कर सकते हैं और दुनिया में इस संबंध में क्या कुछ हो रहा है। यहपुस्तक पाठकों के लिए बहुत ही रोचक और पठनीय है। अत्याधुनिक तकनीकी एवं नवीनतम वैज्ञानिक उपलब्धियों का भी परिचय देते हुए इस पुस्तक में कई आवश्यक पाठों का समावेश किया गया है। यद्यपि अतिविशिष्ट गूढ़ रहस्यों एवं विस्तृत अध्ययन के लिए तो तत्सम्बन्धित कई संदर्भ ग्रन्थों का बारम्बार अध्ययन आवश्यक होता ही है, किन्तु लाखों हिन्दी भाषी के लिए यह पुस्तक निश्चित ही एक अच्छे एवं सच्चे मित्र की भूमिका निभाने में सफल होगी।
इन्हीं कोटि-कोटि शुभकानाओं के साथ आज यह पुस्तक अध्ययनकक्ष में आपके कर-कमलों में शोभायमान हो रही है।
चेतन प्रकाशन
Contant
  • पर्यावरण: परिचय / Paryavaran: Parichay / Environment Introduction
  • पर्यावरण: प्रदूषण एवं उधोग / Paryavaran: Pradushan Evam Udyog / Environment: Pollution and Industry
  • Part : 1 वायु-प्रदूषण / Part : 1 Vayu-Pradushan / Part: 1 Air Pollution
  • Part : 2 जल-प्रदूषण / Part : 2 Jal-Pradushan / Part 2: Water Pollution
  • Part : 3 ध्वनि प्रदूषण / Part : 3 DhvaniPradushan / Part: 3 Sound Pollution
  • Part : 4 मृदा प्रदूषण / Part : 4 Mrda Pradushan / Part: 4 Soil Pollution
  • Part : 5 तापीय प्रदूषण / Part : 5 Tapiy Pradushan / Part: 5 Thermal pollution
  • लुप्तप्राय पृथ्वी / Luptapray Prthvi / Endangered Earth
  • ग्रीनहाउस प्रभाव और विश्वव्यापी उष्णता / Greenahouse Prabhav Aur Vishvavyapi Ushnata / Greenhouse effects and global tropical
  • मानव अस्तित्व और पर्यावरण / Manav Astitv Aur Paryavaran / Human Existence and Environment
  • केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड / Kendriy Pradushan Niyantran Bord / Central Pollution Control board
  • भारत की पर्यावरण नीति / Bharat ki Paryavaran Niti / Environmental Policy of India
  • Part : 1 जल प्रदूषण निवारण एवं नियंत्रण अधिनियम, 1974 तथा 1977 / Part : 1 Jal Pradushan Nivaran Evam Niyantran Evam Niyantran Adhiniyam, 1974 tatha 1977 / Part: 1 Water Pollution and Control Act, 1974 and 1977
  • Part : 2 वायु प्रदूषण एवं नियंत्रण अधिनियम, 1981 / part : 2 Vayu Pradushan Evam Niyantran Adhiniyam, 1981 / Part: 2 Air Pollution & Control Act, 1981
  • Part : 3 वन्यजीवन संरक्षण अधिनियम, 1972 / Part : 3 Vanyajivan Sanrakshan Adhiniyam, 1972 / Part: 3 Wildlife Protection Act, 1972
  • Part : 4 ध्वनि प्रदूषण नियंत्रण कानून / Part : 4 Dhvani Pradushan Niyantran Kanoon / Part: 4 Sound Pollution Control Law
  • Part : 5 पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 / Part : 5 Paryavaran Sanrakshan Adhiniyam 1986 / Part: 5 Environment Conservation Act 1986
  • Part : 6 जैव-विविधता संरक्षण अधिनियम, 2002 / Part : 6 Jaiv-vividhata Sanrakshan Adhiniyam, 2002 / Part: 6 Biodiversity Conservation Act, 2002
  • Part : 7 राष्ट्रीय जलनीति, 2002 / Part : 7 Rashtriy Jalaniti, 2002 / Part: 7 National Waterways, 2002
  • Part : 8 राष्ट्रीय पर्यावरण नीति, 2004 / Part : 8 Rashtriy Paryavaran Niti, 2004 / Part: 8 National Environmental Policy, 2004
  • Part : 9 वन अधिकार अधिनियम, 2006 / Part : 9 Van Adhikar Adhiniyam, 2006 / Part: 9 Forest Rights Act, 2006
  • पर्यावरण प्रदूषण: कानून और क्रियान्वयन / Paryavaran PradUshan: Kanoon Aur Kriyanvayan / Environment Pollution: Law and Implementation
  • पर्यावरण संरक्षण: न्यायपालिका की भूमिका / Paryavaran Sanrakshan: Nayaypalika Ki Bhumika / Environmental Protection: Role of Judiciary
  • ISO 14000 ISO 14000 / iso 14000 iso 14000 / ISO 14000 ISO 14000
  • अपशिष्ट पदार्थों द्वारा पर्यावरण अपकर्षण / Apshisht Padarthon Dwara Paryavaran Apkarshan / Environmental extraction by waste substances
  • अपशिष्ट प्रबंधन / Apshisht Prabandhan / Waste Management
  • औधोगिक उत्सर्ग प्रदूषण / Audyogik Utsarg Pradushan / Industrial emission pollution
  • भारत में प्रमुख औधोगिक आपदाएं / Bharat Mein Pramukh Audyogik Aapadaen / Major industrial disasters in India
  • विश्व में प्रमुख औधोगिक आपदाए / Vishv Mein Pramukh Audyogik Aapadae / Top Industrial Disasters in the World
  • "पर्यावरण के दोहे और नारे / Paryavaran Ke Dohe Aur Nare /
  • Couplets and slogans of environment"